वेस्ट मेनेजमेंट का संदेश देती डांस फ़िल्म ‘बियॉन्ड’

 युवा फिल्म निर्देशक शुभांगी की शार्ट फिल्म ने यूरोप में जीता सेमी फाइनल


       वेस्ट मेनेजमेंट का संदेश देती डांस फ़िल्म ‘बियॉन्ड’



जयपुर । एक बेकार कागज़ की यात्रा पर आधारित शुभांगी आचार्य की फिल्म 'बियॉन्ड' यूरोप के सर्बेस्ट इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में सेमी फाइनल में जीत हासिल की है । युवा निर्देशक शुभांगी आचार्य ने बताया कि इस फिल्म का निर्माण ऑरोअपार संगठन के मेनिफेस्ट इनक्यूबेटर - इंडिया फाउंडेशन फॉर द डांस (आईएफए) और सोनी पिक्चर्स लिमिटेड से मिली डांस फिल्म निर्माण फेलोशिप के तहत किया गया है। 'बियॉन्ड' फिल्म में शहर और शहरीकरण की बहुत ही सामान्य समस्या वेस्ट मेनेजमेंट को नृत्य और मूवमेंट के माध्यम से अभिव्यक्त किया गया है । फिल्म दिखाती है कि कैसे एक व्यक्ति का कचरा दूसरे के लिए अनमोल खजाना हो सकता है । एक बेकार कागज की यात्रा के माध्यम से रिसाइकलिंग के महत्त्व को समझाती इस फिल्म में बेकार कागज की यात्रा को कैप्चर किया है । कागज़ हवाओं द्वारा इधर-उधर उड़ता जाता है और अनिश्चित गंतव्य की तरफ चल पड़ता है । वो एक जगह से दूसरी जगह इंसानों के बीच फिरता हुआ  हवा से अलग-अलग लोकेशन पर पहुंचता है और वो समुंदर में मिल जाता है पर इस पेपर की कहानी में एक उम्मीद भरा मोड़ आता है जो हम सबको यह याद दिलाता  हैं कि हम थोड़ी सी कोशिश करें तो हमारे प्लेनेट  के लिए हम क्या कुछ नहीं कर सकते हैं । दर्शनीय और सौंदर्यपूर्ण स्थान, बेहतरीन कोरियोग्राफी, मंझी हुई सुंदर फ्रीस्टाइल डांस स्टाईल, सरल और कलात्मक पोशाक फिल्म के सरल लेकिन शक्तिशाली विचार को अमूर्त रूप में व्यक्त करती है । 'बियॉन्ड'  की सह-निर्देशक शुभांगी आचार्य, सुगंध लांबा, कॉन्सेप्ट, डांसर और कोरियोग्राफर सुगंध लांबा (मुंबई), संपादक और प्रोडक्शन मैनेजर शुभांगी आचार्य, एनआईडी सिनेमेटोग्राफर मिथिलेश गुणसेकरन (चेन्नई) और संगीतकार कृष्णा सोनी (उदयपुर) हैं । फिल्म की शूटिंग पांडिचेरी में हुई है ।

शुभांगी ने फ़ेलोशिप के तहत ऑरोविल पांडिचेरी में रह कर फिल्म निर्माण की अनोखी शैली- डांस फिल्म  के बारे में जाना, उसे समझा। डांस फिल्म  शैली अभिव्यक्ति, भाव और अभिनय का एक अनूठा संगम है जिसमें फिल्म का कथात्मक नृत्य और मूवमेंट के माध्यम से दर्शाया जाता है, यह बहुत रचनात्मक अभिव्यक्ति और एक गहन अनुभव है । भारत में औरोअपार की कोशिश है कि लोग नृत्य कला के सशक्त माध्यम को जाने, समझे और विभिन्न कलाकार डांस फिल्म  बनाने में सहयोग करें ।

‘बियॉन्ड’ शॉर्ट डांस फ़िल्म – अब तक 6 फ़िल्म समारोहों के लिए चयनित: 

-सर्बेस्ट इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल - सेमी-फाइनलिस्ट (मोल्दोवा, यूरोप)

- एक्सेटर डांस इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल - ओफ़िशियल सलेक्शन (इंग्लैंड)

- 10वां बार्सिलोना अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव– ओफ़िशियल सलेक्शन (स्पेन, यूरोप)

- 10वां गोवा शार्ट फिल्म फेस्टिवल – बेस्ट ऐक्सपेरिमेंटल फिल्म 

- 12वां मुंबई शॉर्ट्स इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल-23 – स्पेशल ज्यूरी अवार्ड 

- 12वां बैंगलोर शॉर्ट्स फिल्म फेस्टिवल-23 - स्पेशल ज्यूरी अवार्ड

उल्लेखनीय है कि जयपुर निवासी शुभांगी आचार्य युवा  फिल्ममेकर  और फोटोग्राफर हैं, जिनके पास डेवलपमेंट और इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में काम करने का 5 साल का अनुभव है। रिसर्च, प्रोडक्शन, सिनेमैटोग्राफी और पोस्ट-प्रोडक्शन के साथ फिक्शन और नॉन-फिक्शन प्रारूपों में फिल्म निर्देशन के क्षेत्र में सक्रिय हैं। उन्हें जेंडर, सामाजिक न्याय और सतत विकास संबंधित विषयों पर काम करने का शौक है जो सामाजिक जागरूकता आधारित फिल्म निर्माण पर केंद्रित है ।

शुभांगी ने एमजीडी गर्ल्स स्कूल, जयपुर से स्कूली शिक्षा प्राप्त कर, सेंट स्टीफंस कॉलेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी से हिस्ट्री ऑनर्स पढ़ा जहां पढ़ाई के साथ-साथ स्टूडेंट्स सोसाइटी ऑफ फोटोग्राफी एंड फिल्म मेकिंग से जुड़ी । फिल्म निर्माण सेंट जेवियर्स कॉलेज मुंबई में पढ़ा, एफटीआईआई के शॉर्ट टर्म कोर्सेज के साथ साथ  ऑरोविल फिल्म इंस्टीट्यूट से फिल्म निर्माण की बारीकियाँ सीखी हैं ।

Comments

Popular posts from this blog

मंत्री महेश जोशी ने जूस पिलाकर आमरण अनशन तुड़वाया 4 दिन में मांगे पूरी करने का दिया आश्वासन

कर्नाटक चुनाव में कांग्रेस को बंपर सीटें

उप रजिस्ट्रार एवं निरीक्षक 5 लाख रूपये रिश्वत लेते धरे