रिफ में लगा बॉलीवुड सितारों का मेला

           राजस्थान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2024 



                 रिफ में लगा बॉलीवुड सितारों का मेला



              अब अवॉर्ड शो पर टिकी दर्शकों की निगाहें 



 ओटीटी की वजह से कलाकारों के घर जल रहे चूल्हे- टीनू आनंद



  राजस्थान सिर्फ शहर नहीं सिनेमा के लिए ये 'कला नगरी' 


जयपुर। रिफ क्लब की ओर से जेम सिनेमा में आयोजित हो रहे राजस्थान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2024 के चौथे दिन बॉलीवुड सितारों का मेला लगा। सिनेमाहॉल तालियों की गड़गड़ाहट से तब गूंज उठा जब दर्शकों से मिले भारतीय सिनेमा के प्रसिद्ध अभिनेता, फिल्म निर्माता और निर्देशक टीनू आनंद।  

कालिया, शहंशाह, दुनिया मेरी जेब में, मैं आजाद हूं जैसे बड़ी फिल्मों को निर्देशित कर चुके टीनू आनंद को रिफ में विद्यार्थियों के साथ अपने अनुभव शेयर किए। इस दौरान टीनू आनंद ने स्टूडेंट्स को कल्चर बेस्ड मूवीज, ओटीटी प्लेटफॉर्म, फिल्म डायरेक्शन के बारे में भी सीख दी। मंच का संचालन कर रहे लेखक जगदीप सिंह से जैसे ही टीनू आनंद मिले तो दोनों ने अपने स्कूल के पुराने दिनों को ​याद किया। मंच पर मिले स्कूलमेट्स में टीनू आनंद ने जहां अपनी जैकेट पर स्कूल का बैच पहना हुआ था वहीं जगदीप सिंह ने अपने स्कार्फ पर बैच लगाकर एक बार फिर पुरानी यादें ताजा कर दी। 

150 फिल्मों में काम कर चुके टीनू आनंद ने सत्यजीत रे के साथ अपने करियर के खास अनुभव शेयर किए। भारतीय सिनेमा में अपने करियर की शुरूआत टीनू आनंद ने सत्यजीत रे के निर्देशन में बनी फिल्म में असिस्टेंट डायरेक्टर के तौर पर की थी। टीनू आनंद ने इसके लिए 9 महीनों तक बंगाली भाषा भी सीखी। फिल्मी सफर के इस मुकाम पर पहुंचे टीनू आनंद ने इसका श्रेय सत्यजीत रे, सुपरस्टार अमिताभ बच्चन, अपने माता—पिता, अपने भाई और अपनी पत्नी को दिया है। 

टीनू आनंद ने ओटीटी प्लेटफॉर्म को लेकर भी अपने विचार रखे। एक्टर ने कहा कि ओटीटी पर काम करने वाले नहीं जानते की इस मंच ने उन्हें सुपरस्टार बना दिया है। आज ओटीटी की वजह से हर कलाकार के घर में चूल्हे जल रहे हैं। टीनू आनंद ने थिएटर में बैठे स्टूडेंट्स से कहा कि आप सभी के पास मोबाइल है तो आप सभी फिल्म मेकर बन सकते हैं। 

*रिफ में शुद्धि का वर्ल्ड प्रीमियम* 

रिफ में फिल्म शुद्धि का वर्ल्ड प्रीमियम भी किया गया। फिल्म को जेम्स हिगिन्सन ने डायरेक्ट किया है। फिल्म की कहानी कुष्ठ रोगियों के जीवन पर ही आधारित है। जिसे विश्व कुष्ठ दिवस पर ही प्रदर्शित किया गया है। फिल्म कुष्ठ रोगियों से भेदभाव ना करने का संदेश देती है। 

*हेलमेट की स्क्रीनिंग में दर्शक बने बच्चे* 

सुनील पुरोहित के डायरेक्शन में बनी फिल्म हेलमेट की स्क्रीनिंग में बड़ी संख्या में बच्चे और यूथ के साथ ही जयपुर के माणक चौक थाने के सीआई भूपेंद्र सिंह भी शामिल हुए। फिल्म यातायात के नियमों का पालन ना करने पर दुर्घटना का शिकार होने पर आधारित है। 16 मिनट की शॉर्ट फिल्म गाड़ी चलाते समय अपनी सुरक्षा के लिए हेलमेट पहनने का संदेश देती है। 

*राजस्थान सिर्फ एक शहर नहीं बल्कि एक 'कला नगरी'* 

राजस्थान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल के दसवें संस्करण के चौथे दिन 'सिनेमा के माध्यम से पर्यटन निवेश एवं संस्कृति को बढ़ावा देने' की थीम पर भी टॉक शो आयोजित किया गया। जिसमें फिल्म अभिनेता एवं निर्देशक सुनील पुरनीक, अभिनेता नंदिश सिंह संधू, फिल्म डायरेक्टर जेम्स हिगिन्सन और फेस्टिवल डायरेक्टर एवं मॉडरेटर सोमेंद्र ​हर्ष मौजूद रहे। टॉक शो में राजस्थान ट्यूरिज्म के बारे में चर्चा की गयी। 

धौलपुर के एक्टर नंदिश संधु ने कहा कि राजस्थान वो जगह है जहां हर कोई ना सिर्फ फिल्म बल्कि भारतीय विरासत का आनंद लेने भी आ सकता है। राजस्थान का पर्यटन यहां की संस्कृति है। यहां का विषय यहां की सुंदरता हर व्यक्ति का मन मोह लेती है। इसके अलावा एक्टर सुनील पुरनीक ने राजस्थान को 'कला नगरी' के तौर पर परिभाषित किया। पुरनीक ने कहा कि यहां का कल्चर और विरासत इस शहर की सबसे बड़ी खुबसूरती है। जो फिल्मों में भी बखूबी उभर कर आती है। 

*आखिरी दिन फिल्मी सितारों से सजेगा रिफ महोत्सव* 

राजस्थान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल (रिफ) के दसवें संस्करण का आखिरी दिन फिल्मी सितारों से जगमग होगा।  समाज सेविका व भारतीय पारंपरिक हस्तकला कारीगर रूमा देवी,भारतीय अभिनेत्री और निर्माता इति आचार्य, हिंदुस्तानी गायक और प्रसिद्ध रियलिटी शो "इण्डियन आईडल जूनियर" के प्रतियोगी र​हे मोती खान, लोक संगीत को विदेशों तक पहचान दिलाने वाले गौरव पद्मश्री से सम्मानित उस्ताद अनवर खां मांगणियार, अभिनेता अखिलेंद्र मिश्रा, टीवी एक्टर नंदिश सिंह संधू सहित अन्य सितारें रिफ में अपने अनुभव साझा करेंगे तो वहीं इन्हें कई पुरूस्कारों से सम्मानित भी किया जाएगा। 

*अवॉर्ड सेरेमनी के साथ होगा रिफ का समापन* 

रिफ के दसवें संस्करण का समापन एक बार फिर एक शानदार अवॉर्ड सेरेमनी के साथ होगा। 31 जनवरी को कार्यक्रम के आखिरी दिन अंतर्राष्ट्रीय, भारतीय और राजस्थानी सिनेमा के लिए लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार, गौरव पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ लेखक और थीम अवॉर्ड समेत कई पुरस्कार वितरित किए जाएंगे।

Comments

Popular posts from this blog

नाहटा की चौंकाने वाली भविष्यवाणी

नाहटा को कई संस्थाएं करेंगी सम्मानित

उप रजिस्ट्रार एवं निरीक्षक 5 लाख रूपये रिश्वत लेते धरे