सिल्क प्रदर्शनी सेल महिलाओ को लुभा रही है।

           सिल्क प्रदर्शनी सेल महिलाओ को लुभा रही है।


जयपुर 16 फ़रवरी । उमंग आर्ट एंड क्राफ्ट्स एक्स्पो द्वारा ‘’फाईवर टू सिल्क फैब ‘’ प्रदर्शनी व सेल, बिडला ऑडिटोरियम, स्टेच्यू सर्किल, सी स्कीम, जयपुर में यह प्रदर्शनी 21 फ़रवरी  तक सुबह 11 से रात्रि 8 बजे तक चलेगी । 


फाईवर टू सिल्क फैब के आयोजक  आशीष कुमार गुप्ता ने बताया कि “ बिडला ऑडीटोरियम, जयपुर में  आयोजित फाईवर टू सिल्क फैब का मकसद देशभर के सिल्क उत्पादों का एक ही छत के तले प्रदर्शन करना है ।


 इस प्रदर्शनी में देश भर से आए सिल्क बुनकरों व डिजाईनरो ने अपने अपने प्रदेश संस्कृति काव्य और त्योहारो को सिल्क पर छापा है । एक्जिबिशन में गुजरात की पटोला सिल्क , तेलांगना की उपाडा  सिल्क तमिलनाडु की कांजीवरम सिल्क , महाराष्ट्र की पैठानी सिल्क, पर गई कलाकारी लोगो को अपनी ओर खीच रही है । ”


इस प्रदर्शनी में छत्तीसगढ़ से कोसा, घिचा,मलबरी रॅा सिल्क, एब्लॉक प्रिंटेड सिल्क साड़ी गुजरात से बान्धनी, पाटोला कच्छ एम्ब्रोयडरी , मिरर वर्क एवं डिजाइनर कुर्ती , मध्य प्रदेश से चंदेरी , महेश्वरी काटन एण्ड सिल्क साडी सूट , डकारी जामदानी  एवं  बनारसी सिल्क , तान्चोयी सिल्क, मैसूर सिल्क की साड़ीयो के साथ धर्मावरम तस्सर, ढाका, वही डिजाइनर ब्लाउज , सलवार सूट, पंजाब की फुलकारी वर्क सूट व् साडी हैदराबाद की हैवी नेकलेस, नोज पिन , रिंग, बैंगल्स, मांग टीका , कमरबंद, और मुंबई वेस्टर्न पैटर्न ज्वैलरी व पालकी ज्वैलरी भी है ।


इस प्रदर्शनी में 5000  से अधिक वैरायटियों की सिल्क साड़ियां, सूट, ड्रेस मटेरियल  इत्यादि का प्रदर्शन किया जा रहा है। साड़ी और सूट की  वैरायटी के साथ विंटर कलेक्शन तथा पश्मीना शाल की भारी रेंज भी उपलब्ध है । 


असम की मूंगा सिल्क साड़ियां भी गृहणियों को आकर्षित कर रही है। इस प्रदर्शनी में कश्मीर के बुनकरों के सिल्क के कारपेट, पश्मीना शाल, साड़ियां, कलकत्ता के कारीगर कमल मटका सिल्क, कांतावर्क ,शिफॉन, मूंगा, मस्राइज,मटका रेशम की साड़ी यहां प्रदर्शित की गई है। हैंडी क्राफ्ट खुर्जाकी पॉटरी, सहारनपुर के एंटीक फनीचर आदि है।

Comments

Popular posts from this blog

नाहटा की चौंकाने वाली भविष्यवाणी

मंत्री महेश जोशी ने जूस पिलाकर आमरण अनशन तुड़वाया 4 दिन में मांगे पूरी करने का दिया आश्वासन

उप रजिस्ट्रार एवं निरीक्षक 5 लाख रूपये रिश्वत लेते धरे