नाथ संप्रदाय के योगी की हत्या का आरोपी बिहार से गिरफ्तार

 नाथ संप्रदाय के योगी की हत्या का आरोपी बिहार से गिरफ्तार


         शिष्य ने ही महंत बाबा को उतारा मौत के घाट



आगरा। नाथ संप्रदाय के महंत योगी चैतन्यनाथ की हत्या का पर्दाफाश हो गया है। शिष्य ने ही महंत की हत्या की थी। उसने बाबा के सिर पर डंडे से प्रहार का उन्हें मार के घाट उतार दिया था। हत्याकांड के 15 दिन बाद पुलिस ने आरोपी को बिहार से गिरफ्तार किया है। आरोपी ने पुलिस से अपना जुर्म कबूल लिया है। हत्या के 10 दिन बाद महंत के शव को समाधि से बाहर निकाला था। पोस्टमॉर्टम के बाद मौत का कारण पता चल सका। पुलिस टीम मामले की पड़ताल में जुटी थी।थाना सदर क्षेत्र में बाबा लालनाथ का मंदिर है। मंदिर पर योगी बाबा चैतन्यनाथ करीब 8 साल से सेवा कर रहे थे। 12 मई को उनका शव मंदिर में मिला। नाथ संप्रदाय के महंत और संभ्रांत लोगों ने उन्हें मंदिर परिसर में बाबा की समाधि लगा दी। इसके कुछ दिन बाद बाबा के भाई मुन्ना मिश्रा निवासी सुनारी गांव थाना जगदीशपुरा ने बाबा की हत्या की आशंका जताई थी। मुन्ना मिश्रा ने पुलिस को बताया कि बाबा का एटीएम कार्ड और मोबाइल फोन गायब है। मुन्ना मिश्रा ने बाबा का पोस्ट मार्टम कराने की मांग की थी। मुन्ना मिश्रा की अपील पर पुलिस अधिकारियों ने योगी बाबा चैतन्यनाथ के शव को समाधि से बाहर निकाला। इसके बाद बाबा के शव को पोस्ट मोर्टम हुआ। इसमें हत्या का कारण पता चला। योगी बाबा की मौत सिर में प्रहार करने से हुई थी। पुलिस ने टीम बनाकर मामले की जांच शुरू कर दी।

थाना प्रभारी प्रदीप कुमार ने बताया कि हत्या के बाद योगी बाबा का मोबाइल फोन और एटीएम कार्ड गायब था। सर्विलांस टीम ने बाबा के मोबाइल की लोकेशन ट्रेकिंग पर लगा दिया था। 26 मई को योगी बाबा के मोबाइल की लोकेशन बिहार में पता लगी। मोबाइल फोन के यूपीआई नंबर से रुपये निकाले गए थे। इस पर पुलिस ने बिहार के पीपरा गांव, जिला सहरसा से आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस निरीक्षक प्रदीप कुमार ने बताया कि हत्या करने वाला योगी बाबा का शिष्य अक्षय गुप्ता उर्फ बालयोगी है। अक्षय गुप्ता ने पुलिस को बताया कि वह मंदिर पर सेवा करने जाता था। 10 मई को भी वह मंदिर पर गया था। महंत योगी बाबा चैतन्यनाथ ने उसके खाने-पीने की व्यवस्था की थी। इसके बाद वह बाबा की सेवा कर रहा था। तभी योगी बाबा ने उसके साथ गलत हरकत की। इसके बाद उसे गुस्सा आ गया। उसने बाबा के सिर पर डंडा मारकर हत्या कर दी। इसके बाद वह अपना भेष बदलकर भाग गया। वह बाबा का एटीएम कार्ड और मोबाइल ले गया था।

Comments

Popular posts from this blog

नाहटा की चौंकाने वाली भविष्यवाणी

नाहटा को कई संस्थाएं करेंगी सम्मानित

उप रजिस्ट्रार एवं निरीक्षक 5 लाख रूपये रिश्वत लेते धरे