अशोक गहलोत की कथनी और करनी में अंतर : डॉ. पूनियां


जयपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने राज्य सरकार द्वारा शराब बिक्री को बढ़ावा देने के लिए 30 फीट रोड़ पर गैर व्यवसायिक 125 वर्गगज भूखण्ड पर बार खोलने की अनुमति पर सरकार की तिखी आलोचना करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गाँधी जी के नाम का दुरूपयोग कर आमजन को नशे की ओर अग्रसर करने का काम कर रहे है। डॉ. पूनियां ने कहा कि मुख्यमंत्री जी की कथनी और करनी में अंतर साफ-साफ दिखाई पड़ता है। मुख्यमंत्री अपने अधिकतर भाषणों में महात्मा गाँधी के विचारों का अनुसरण करने का झूठा दावा करते रहे है और प्रदेश में शराबबंदी लागू हो इसका समर्थन करने का पाखण्ड करते आये है तथा जनता को भ्रमित करने के लिए यहाँ के अधिकारियों की एक टीम को बिहार भेजकर वहाँ शराबबंदी किस रूप में लागू है उसी तर्ज पर प्रदेश में लागू करने का भ्रम फैलाया जाता है। ठीक इसके विपरीत शराब बिक्री को बढ़ावा देने का आदेश निकालते हैं |


आखिर वो क्या चाह रहे हैं, क्या राजस्थान को मयखाने में तब्दील करना चाहते हैं? राजस्थान के युवाओं के प्रति उनकी संवेदना खत्म हो चुकी है, जो उन्हें नशे में धकेलने का काम कर रहे हैं। क्या ऐसे बार खोलने से पार्किंग की समस्या नहीं होगी? अपराध नहीं बढ़ेंगे? सरकार का खजाना भरने के और भी तरीके हो सकते हैं, लेकिन ये कानून तो प्रदेश को बर्बाद कर देगा। लगता है मुख्यमंत्री गहलोत को अपने निर्णयों पर यूटर्न लेने की आदत हो चुकी है। यह अधिसूचना सरकार ने 01 जनवरी, 2020 को जारी कर दी है। पहले 60 फीट और 80 फीट के रोड़ पर बार खोले जा सकते थे, जिसे सरकार ने अपना खजाना भरने के उद्देश्य से बदल दिया। डॉ. पूनियां ने कहा कि राजस्थान के 900 में से लगभग 400 बार जयपुर में हैं। राजधानी पहले ही अपराधों से ग्रस्त है। इस निर्णय के बाद जयपुर और राजस्थान की जनता के सामने बड़ी चुनौती होगी


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को